Gaushala Dharodi

Baba Jameen Naath Gaushala

Dharodi, Narwana Jind
( Reg. 268/2016)

About Baba Jameen Naath Gaushala

बाबा जमीन नाथ धरोदी गौशाला की ओर से अभिनंदन। हम प्रसिद्ध तीर्थ स्थल गौशाला में गायों की पूजा करते हैं। गायों के साथ रहना, उन्हें खाना खिलाना और उनकी पूजा करना काफी ऊर्जावान होता है। सर्वोत्तम स्तर की सुरक्षा, देखभाल और प्राकृतिक जीवन प्रदान करके, हम अपनी गायों को खुश और प्यार करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

भगवान श्री कृष्ण की इच्छा है, “गाएं मेरे सामने, मेरे दोनों ओर, मेरे पीछे रहें। मैं हमेशा गायों के बीच में रहूंगा।” श्रीमद्भागवत के दशम स्कंद (10वें सर्ग) में।

About Baba Jameen Naath Gaushala

बाबा जमीन नाथ धरोदी गौशाला की ओर से अभिनंदन। हम प्रसिद्ध तीर्थ स्थल गौशाला में गायों की पूजा करते हैं। गायों के साथ रहना, उन्हें खाना खिलाना और उनकी पूजा करना काफी ऊर्जावान होता है। सर्वोत्तम स्तर की सुरक्षा, देखभाल और प्राकृतिक जीवन प्रदान करके, हम अपनी गायों को खुश और प्यार करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

भगवान श्री कृष्ण की इच्छा है, “गाएं मेरे सामने, मेरे दोनों ओर, मेरे पीछे रहें। मैं हमेशा गायों के बीच में रहूंगा।” श्रीमद्भागवत के दशम स्कंद (10वें सर्ग) में।

गाय कल्याण विशेषज्ञ
हमारी समर्पित टीम गायों की असाधारण देखभाल करती है, उनकी भलाई और गरिमा सुनिश्चित करती है।
अहिंसा को कायम रखना
हम अहिंसा के सिद्धांतों का सम्मान करते हैं और गायों के सांस्कृतिक महत्व को पहचानते हैं।
पारदर्शी और जवाबदेह
हम स्पष्ट रिकॉर्ड बनाए रखते हैं और विश्वास और जवाबदेही सुनिश्चित करते हुए नियमित अपडेट प्रदान करते हैं।
सामुदायिक व्यस्तता
हम समुदाय के साथ सक्रिय रूप से जुड़ते हैं, जागरूकता फैलाते हैं और समान विचारधारा वाले व्यक्तियों का एक नेटवर्क बनाते हैं।
Volunteer Opportunities
Join us as a volunteer and directly contribute to the well-being of cows.

Mission Of Baba Jameen Naath Gaushala

समाज में गौरक्षा (गायों के संरक्षण) के महत्व को स्थापित करना।

  • प्राचीन भारतीय विचारधारा के अनुसार, व्यक्ति को अच्छे कर्म करने की सलाह दी जाती है, न केवल मानव सभ्यता के कल्याण के लिए बल्कि अन्य जीवित प्राणियों जैसे गाय और अन्य जरूरतमंद जानवरों के कल्याण के लिए भी।
  • भारतीय सभ्यता ने हमेशा गाय को एक पवित्र जानवर के रूप में पूजा किया है और हम मानव शिशुओं को दूध की आपूर्ति करने के लिए गाय की प्रजाति के आभारी हैं और भावना इतनी शुद्ध और पवित्र है कि गाय को सात माताओं में से एक के रूप में स्वीकार किया जाता है। उसे ही भारतीय सांस्कृतिक मिशन कहा जाता है।
  • ब्राह्मणवादी संस्कृति और गोरक्षा के आधार पर ही मानव सभ्यता आगे बढ़ेगी। गौवंश के जीवन की रक्षा मानव समाज का प्रथम एवं सर्वोपरि कर्तव्य है।

Various Activities

Training

Gau Samvardhan

Milk Distribution

Organic Fertilizer

Untitled design

Gopuja & Godanam​

गोपूजा से तात्पर्य गाय और उसके बछड़े की पूजा से है। गोपूजा लोगों के संघर्षों को आसान बनाती है, जो उन्हें संतुष्टि और शांति भी प्रदान करती है। भगवान कृष्ण गायों का बहुत पालन-पोषण करते हैं। उन्हें गोविंदा (गायों को खुश करने वाला) और गोपाल (गायों की रक्षा करने वाला) नामों से जाना जाता है। वह गायों के घर गोकुल में रहते हैं।

बाबा ज़मीन नाथ गौशाला दुनिया भर में सभी को निम्नलिखित श्रेणियों के साथ सेवा करने का मौका प्रदान करती है।

  • गौशाला हेतु नवीन भूमि अधिग्रहण
  • गौशाला निर्माण में सहयोग हेतु
  • एक गाय को एक वर्ष के लिए गोद लें
  • गाय का भोजन
  • विशेष अवसरों पर गोपूजन और दान

3000

गोधन (गाय + बछड़ा)

12

एकड़ जमीन

6000 Sq. feet

खिरक क्षमता

80

दान के लिए नंदी

Gallery

Special Donator

Scroll to Top